January 29, 2023
Himachal

कुल्लू गांव के निवासी कूड़ा निस्तारण सुविधा का विरोध करते हैं

कुल्लू  :   कुल्लू जिला मुख्यालय से करीब 10 किमी दूर स्थित बंदरोल पंचायत के निवासियों ने अपने आसपास कचरा शोधन संयंत्र लगाने के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

जोहल गांव में वन भूमि में प्लास्टिक की बोतलों जैसे ठोस कचरे को कुचलने के लिए जिला प्रशासन व प्रखंड विकास पदाधिकारी मशीन लगाने की योजना बना रहे थे. हालांकि जमीन की स्वीकृति से पहले ही ग्रामीणों ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया है।

पंचायत के लगभग 200 निवासियों ने हाल ही में एक बैठक की और कचरा उपचार संयंत्र स्थापित करने का विरोध किया। ग्रामीणों का कहना है कि वे कूड़ाघर का विरोध करते हैं। उनका कहना है कि कचरा प्लांट बनने के बाद क्षेत्र में गंदगी फैल जाएगी जो बीमारियों का कारण बनेगी। उनका कहना है कि अगर उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो वे आंदोलन के लिए विवश होंगे।

क्षेत्र के शहरी स्थानीय निकायों और पंचायतों के लिए कचरे का निपटान एक अत्यंत कठिन कार्य बन गया है। जून 2017 में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशों के बाद जनवरी 2019 से पिर्डी में अपशिष्ट भस्मक संयंत्र में डंपिंग बंद कर दी गई थी।

प्रशासन और नगर निगम द्वारा कई जगह चिन्हित किए गए थे लेकिन स्थानीय पंचायतों ने अपने क्षेत्र में वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट लगाने पर आपत्ति जताई। वर्तमान में कुल्लू व भुंतर शहर का कूड़ा मनाली के रंगरी स्थित रिफ्यूज डिराइव्ड फ्यूल प्लांट में भेजा जा रहा है. कुल्लू नगर परिषद (एमसी) को हर महीने करीब 4 लाख रुपये मनाली तक कचरा पहुंचाने के अलावा मनाली नगर निगम को 1 रुपये प्रति किलो का भुगतान करना पड़ता है।

कुल्लू नगर निगम कुल्लू के सरवारी क्षेत्र के नेहरू पार्क में स्थित मैटेरियल रिकवरी फैसिलिटी साइट पर अपना खुद का कंपोस्टर और श्रेडर प्लांट स्थापित करने की योजना बना रहा था, जिसके लिए स्वीकृति प्राप्त हो गई थी। शहर से आने वाले सूखे कचरे को श्रेडर से छोटे-छोटे टुकड़ों में काटा जाएगा। इसके बाद इसे सीमेंट प्लांट भेजा जाएगा।

गीले कचरे को कंपोस्टर द्वारा खाद में बदला जाएगा। दोनों प्लांट का संचालन शुरू होने के बाद एमसी को कचरे के निस्तारण पर लाखों रुपए की बचत होगी। एमसी ने फरवरी तक प्लांट चालू करने का लक्ष्य रखा है।

 

Leave feedback about this

  • Service