February 3, 2023
Himachal

अर्की प्लांट को प्रदूषण नियमों का उल्लंघन करने पर नोटिस

सोलन  :  वायु (प्रदूषण निवारण और नियंत्रण) अधिनियम, 1981 के प्रावधान के तहत अरकी उपमंडल में अल्ट्राटेक सीमेंट प्लांट, बागा को प्रदूषण मानदंडों के उल्लंघन के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। बोर्ड के कर्मचारियों द्वारा निरीक्षण किए जाने पर यूनिट में अधिनियम से संबंधित उल्लंघन पाए गए।

हिमाचल प्रदेश राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (एचपीएसपीसीबी) के एक प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि अल्ट्राटेक सीमेंट प्लांट, बागा के स्टैक उत्सर्जन की निगरानी पिछले साल की गई थी। परिणामों में उत्सर्जन निर्धारित मानकों के अनुरूप नहीं पाया गया जिसके बाद बोर्ड के परवाणू कार्यालय ने आज इकाई को नोटिस जारी किया।

उन्होंने बताया, “वायु प्रदूषण नियंत्रण उपकरणों के सुचारू संचालन और पर्यावरण मानकों के अनुपालन के लिए इकाई प्रबंधन को सुधारात्मक उपाय करने के लिए कहा गया था।”

इससे पहले, सीमेंट मिल, कच्ची मिल और कोयला मिल में इकाई की स्टैक उत्सर्जन निगरानी की जाती थी और वे निर्धारित मानदंडों से ऊपर पाए जाते थे, उन्होंने कहा कि स्टैक उत्सर्जन मानदंडों के उल्लंघन के लिए अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत कार्रवाई शुरू की गई थी।

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने बोर्ड को उल्लंघन करने वाली इकाइयों से पर्यावरण मुआवजा वसूलने और वसूलने का निर्देश दिया है। प्रवक्ता ने बताया कि राज्य द्वारा यूनिट प्रबंधन को सुधारात्मक कदम उठाने के लिए कई अवसर दिए जाने के बावजूद यूनिट निर्देशों का पालन करने में विफल रही।

इकाई को अपना जवाब प्रस्तुत करने के लिए 15 दिन की अवधि दी गई है कि क्यों न उनके खिलाफ लापरवाही के लिए दंडात्मक कार्रवाई शुरू की जाए। उन्होंने कहा कि अधिनियम के प्रावधानों में 10,000 रुपये तक का जुर्माना और सात साल तक की कैद या दोनों शामिल हैं।

यूनिट को परिवेशी वायु और स्टैक उत्सर्जन मानदंडों का पालन नहीं करते हुए भी पाया गया था, जिसके बाद कमियों का पालन न करने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था।

बोर्ड के प्रवक्ता ने बताया कि इकाई ने संयंत्र क्षेत्र में पानी के छिड़काव की व्यवस्था नहीं की थी और वाहनों की आवाजाही के कारण धूल का उत्सर्जन देखा गया था। साथ ही कोयला मिल क्षेत्र को शीट कवर भी उपलब्ध नहीं कराया गया।

Leave feedback about this

  • Service