February 3, 2023
Himachal

चंबा, मंडी में मौसम रडार लगाए गए

शिमला  :  हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने केंद्र सरकार से हिमाचल प्रदेश के लिए आपदा कोष में वृद्धि करने का आग्रह किया है क्योंकि राज्य कठिन भौगोलिक और जलवायु परिस्थितियों के कारण विभिन्न प्रकार की प्राकृतिक आपदाओं से ग्रस्त है।

मुख्यमंत्री ने यह मांग पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) जितेंद्र सिंह द्वारा नई दिल्ली से वर्चुअल रूप से संबोधित राज्य में दो डॉपलर वेदर राडार स्थापित करने के उद्घाटन समारोह के दौरान उठाई. ये डॉपलर राडार चंबा जिले के जोत और मंडी जिले के मुरारी देवी में लगाए गए हैं।

सुक्खू ने कहा कि ये राडार सभी दिशाओं में 100 किलोमीटर के दायरे में भारी बारिश, आंधी और ओलावृष्टि का पूर्वानुमान लगाने में सक्षम होंगे। ये विशेष रूप से लघु-श्रेणी के पूर्वानुमान के लिए उपयोगी होंगे। “ये रडार क्षेत्र विशेष के पूर्वानुमान और चेतावनी में सुधार करने में सहायक होंगे। वे मौसम की निगरानी क्षमताओं को भी बढ़ाएंगे और सटीक डेटा उत्पन्न करेंगे जो प्रशासन को मौसम जनित आपदाओं के कारण होने वाले नुकसान को कम करने के लिए शीघ्र व्यवस्था करने में मदद करेंगे।

सुक्खू ने कहा कि 15 जनवरी, 2021 को शिमला जिले के कुफरी में एक डॉपलर मौसम रडार स्थापित किया गया था। “इन दो अतिरिक्त राडारों के चालू होने से, राज्य का लगभग 70 प्रतिशत क्षेत्र मौसम पूर्वानुमान के लिए कवर किया जाएगा। किन्नौर और लाहौल-स्पीति जिले का लगभग 30 प्रतिशत क्षेत्र इन राडारों के दायरे में नहीं आएगा।

मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय राज्य मंत्री से इन जिलों के लिए एक अतिरिक्त राडार उपलब्ध कराने का आग्रह किया ताकि इन जनजातीय जिलों को भी कवर किया जा सके। “बादल फटने से हाल के वर्षों में किन्नौर जिले में भारी नुकसान हुआ है। इस प्रकार, यह महत्वपूर्ण है कि अग्रिम में निवारक उपाय करने के लिए एक उचित मौसम पूर्वानुमान तंत्र विकसित किया जाए। बादल फटने से इलाके में भारी नुकसान हुआ है, खासकर बिजली परियोजनाओं को।’

Leave feedback about this

  • Service