December 5, 2022
Entertainment

ऑस्ट्रियाई फिल्म ‘अल्मा एंड ऑस्कर’ से होगी 53वें फिल्म महोत्सव की शुरूआत

नई दिल्ली, गोवा में 20 नवंबर से 28 नवंबर तक आयोजित होने वाले 53वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) की शुरूआत ऑस्ट्रियाई फिल्म ‘अल्मा एंड ऑस्कर’ से होगी। विएना समाज के ग्रैंड डेम अल्मा महलर (1879-1964) और ऑस्ट्रियाई कलाकार ऑस्कर कोकोस्चका (1886-1980) के बीच भावनात्मक और उथल-पुथल भरा रिश्ता इस बायोपिक का विषय है। डाइटर बर्नर द्वारा निर्देशित यह फिल्म कुल 110 मिनट की है। अल्मा और ऑस्कर रविवार, 20 नवंबर को आईनॉक्स, पणजी में प्रदर्शित की जाएगी।

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्रालय के मुताबिक चूकि, फिल्म महोत्सव सिनेमा की कला को सम्पूर्णता के साथ मनाने का प्रयास करता है, इसलिए यह उचित है कि आईएफएफआई 53 की शुरूआत एक संगीतकार और एक कलाकार के बीच प्रेम संबंध की भावपूर्ण फिल्म से हो रही है।

एक उभरते हुए चित्रकार, ऑस्कर कोकोस्चका की मुलाकात संगीतकार अल्मा से उस समय होती है, जब वह अपने पहले पति गुस्ताव महलर की मृत्यु के बाद, वास्तुकार वाल्टर ग्रोपियस के साथ अपना रिलेशनशिप शुरू कर चुकी होती है। अल्मा नहीं चाहती है कि वह किसी ऐसे व्यक्ति के साथ रहे, जिसकी छाया में वह अपनी कलात्मक क्षमता को हासिल न कर पाए। यह सोचते हुए अल्मा ने ओस्कर कोकोस्चका के साथ भावनाओं से ओतप्रोत संबंध शुरू किया। उनके सम्बन्ध की प्रकृति ऐसी है कि कोकोस्चका ने अपनी सबसे प्रसिद्ध रचना को इस थीम पर चित्रित किया। फिल्म उनके रिश्ते की पड़ताल करती है, जिसे ‘तूफानी’ और ‘उथल-पुथल’ भरा कहा गया है।

निर्देशक डाइटर बर्नर एक प्रसिद्ध ऑस्ट्रियाई फिल्म व थिएटर निर्देशक, अभिनेता और पटकथा लेखक हैं। उन्हें ऑस्ट्रिया में पुरस्कार विजेता ‘अल्पेन्सगा’ की छह फिल्मों के साथ एक निर्देशक के रूप में देश भर में प्रसिद्धि मिली, जिसमें 1976-1980 तक की अवधि के दौरान एक परिवार और गांव के इतिहास को दिखाया गया है। उन्हें श्निट्जलर के थिएटर-नाटक, डेर रेगेन पर आधारित उनकी फिल्म बर्लिनर रेगेन (2006) के लिए अंतर्राष्ट्रीय प्रशंसा मिली।

गौरतलब है कि इस बार भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) में पिछले किसी भी अन्य आयोजन की तुलना में अधिक संख्या में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय फिल्मी हस्तियां शामिल होंगी। फिलहाल केंद्र और राज्य सरकार द्वारा आयोजन की योजना पर काम किया जा रहा है। जल्द ही प्रतिनिधियों को विस्तृत कार्यक्रम उपलब्ध कराया जाएगा। इस 53वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का आयोजन गोवा में 20 नवंबर से 28 नवंबर, 2022 तक होगा।

53वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में 15 फिल्में प्रतिष्ठित स्वर्ण मयूर पुरस्कार हासिल करने की दौड़ में हैं। इन फिल्मों में कश्मीरी पंडितों के पलायन पर बनी फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ भी शामिल है। इसके अलावा इन 15 फिल्मों में 12 अंतर्राष्ट्रीय और तीन भारतीय फिल्में शामिल हैं जो कला के माध्यम से कोई न कोई संदेश देती हैं।

Leave feedback about this

  • Service