June 27, 2022
Himachal

आगामी 25 वर्षों में नए भारत के स्वप्र का संकल्प

धर्मशाला में देश की आजादी के 100 वर्ष पूरा होने पर आगामी 25 वर्षों में नए भारत के स्वप्र का संकल्प प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में देश भर के सभी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों संग देश के अति वरिष्ठ कुल 206 अधिकारियों की ओर से लिया जाएगा। इसमें नीति आयोग की ओर से आगामी 25 वर्षों में इंडिया को विश्व भर के देशों के मुकाबले में सबसे अग्रणी किए जाने के रोडमैप पर रणनीति बनाई जाएगी।

विज्ञान व अनुसंधान, स्वास्थय, शिक्षा, कृषि संग भारत को आत्मनिर्भर बनाने पर होगा मंथन

इसमें भारत को विज्ञान व अनुसंधान, स्वास्थय, शिक्षा, कृषि संग भारत को आत्मनिर्भर बनाने के हर पहलू पर भी गहन मंथन होगा। पीएम नरेंद्र मोदी व नीति आयोग की ओर से ही आजादी के अमृत महोत्सव 75वीं वर्षगांठ पर ही आगामी 25 वर्षों के लिए वर्ष 2047 में देश की आजादी की 100वीं वर्षगांठ तैयार करने का संकल्प रहेगा। हिमाचल प्रदेश में बुधवार 15 से 17 जून तक तीन दिवसीय नेशनल कॉन्फ्रेंस ऑफ चीफ सेक्रेटरीज आयोजित की जाएगी। इसमें दो दिन 16 व 17 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय सम्मेलन की अध्यक्षता करेंगे। इसमें देश के सभी 28 प्रदेशों व आठ केंद्र शासित राज्यों के कुल 36 मुख्य सचिवों संग नीति आयोग, देश के 107 अति वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कुल 206 वरिष्ठ अधिकारी विशेष रूप से शामिल होंगे। इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से संदेश अति अनिवार्य रहेगा। पीएम मोदी व नीति आयोग की ओर से ही आजादी के अमृत महोत्सव 75वीं वर्षगांठ पर ही आगामी 25 वर्षों के लिए देश की आजादी की 100वीं वर्षगांठ तैयार करने का संकल्प रहेगा। प्रधानमंत्री की ओर से सभी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों सहित देश के वरिष्ठ अधिकारियों को विशेष कार्यों को लेकर भी संदेश दिया जाएगा।

2047 तक नए भारत बनाए जाने को लेकर रोड़मैप की तैयारी

इसमें पहले दिन 2047 तक नए भारत बनाए जाने को लेकर रोड़मैप तैयार किया जाएगा। इसके साथ ही विभिन्न सत्र भी अलग-अगल मंत्रालयों के आयोजित किए जाएंगे। वहीं, दूसरे दिन 16 जून को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में बैठक होगी। इसमें नीति आयोग के कार्यकारी अधिकारी सीईओ अमिताभ कांत की ओर से इंडिया-2047 रोडमैप पर विस्तार से रिपोर्ट प्रस्तुत की जाएगी। बैठक में भारत में कृषि क्षेत्र में वैज्ञानिक व डिजिटल तरीके से उन्नति किए जाने सहित भारत फसल विविधिकरण पर भी मंथन होगा। इसके अलावा भारत को आगे ले जाने वाले विज्ञान एवं अनुसंधान, स्वास्थ्य, शिक्षा, रक्षा, कृषि-वैज्ञानिक खेती, सौर ऊर्जा व भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए 2047 का रोडमैप तैयार होगा। (एचडीएम)

 

Leave feedback about this

  • Service