June 28, 2022
Himachal

हिमाचल में फिर से चलेगा मोदी मैजिक?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरे देश में पार्टी के लिए सबसे बड़े वोट कैचर हैं। वह जहां भी जाते हैं, उनकी मौजूदगी कैडर को जीवंत कर देती है। हिमाचल में भाजपा मिशन रिपीट के सियासी रथ को गति देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सहारे है। प्रधानमंत्री मोदी गुरुवार से शुरू होने वाले सियासी राजधानी धर्मशाला के दो दिवसीय दौरे में एक बार फिर पार्टी कार्यकर्ताओं को जोश में भरने के लिए तैयार हैं।

अब की बार है तीन पक्षीय मुकाबला

हिमाचल में इस वर्ष के अंत में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। भाजपा के समक्ष सत्ता विरोधी लहर को बेअसर करने की कोशिश करने के अलावा न केवल कांग्रेस बल्कि आम आदमी पार्टी से भी मिल रही चुनौती का सामना करना होगा। सत्तारूढ़ दल यह सुनिश्चित करने के लिए कि वह पहाड़ी राज्य में सत्ता बरकरार रखे, प्रधानमंत्री मोदी के रूप में अपने सबसे शक्तिशाली सियासी अस्त्र का इस्तेमाल कर रहा है। भाजपा ने फिर से सता में वापसी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर तमाम केंद्रीय मंत्रियों व नेताओं को हिमाचल में उतार कर माहौल अपने पक्ष में करने का प्लान किया है। यही वजह है कि एक एक करके सबके प्रवास के कार्यक्रम सामने आ रहे हैं। प्रधानमंत्री धर्मशाला में दो दिन तक देश के मुख्य सचिवों के सम्मेलन को संबोधित करने वाले हैं। पहली बार यह वार्षिक कार्यक्रम राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के बाहर आयोजित किया जाएगा। हिमाचल भाजपा प्रधानमंत्री के दौरे का सियासी लाभ कुछ राजनीतिक कार्यक्रम भी करके उठाना चाह रही है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि पीएम के व्यस्त कार्यक्रम से रोड शो का कार्यक्रम फाइनल है, जो केसीसी बैंक चौक से युद्ध स्मारक तक आयोजित होगा।

कांग्रेस अव्यवस्थित भाजपा और आप में दौड तेज

हिमाचल में कांग्रेस अभी भी अपने घर को व्यवस्थित करने की कोशिश कर रही है। शीर्ष नेताओं में मतभेद उसे लगातार चोट पहुंचा रहे हैं। उधर आम आदमी पार्टी के सामने इतने कम समय में कैडर बनाने की चुनौती है, जो पहले ही दिल्ली के मंत्री व हिमाचल प्रभारी सत्येंद्र जैन की गिरफ्तारी से प्रभावित हुआ है। आप की नई प्रदेश कार्यकारिणी के ऐलान के बाद विरोध के स्वर भी उठ रहे हैं। ऐसे में भाजपा मौके का लाभ लेने के चक्कर में है।

Leave feedback about this

  • Service