June 30, 2022
Himachal

Father-son arrested in police constable recruitment paper leak

पुलिस कांस्टेबल भर्ती पेपर लीक में बाप-बेटा गिरफ्तार

अर्की में पकड़े गए आरोपी, 4 दिन का पुलिस रिमांड

10 राज्यों से जुड़े हैं पेपर लीक गिरोह के तार

हिमाचल प्रदेश पुलिस कांस्टेबल भर्ती पेपर लीक मामले में अर्की से बाप और बेटे की एक जोड़ी को गिरफ्तार किया गया है। ये गिरफ्तारी बुधवार को की गई है.. पुलिस ने आरोपियों को स्थानीय कोर्ट के सामने पेश किया जहां से कोर्ट ने दोनों को चार दिनो की पुलिस हिरासत में भेज दिया है। Additional SP, Solan, अशोक वर्मा ने बताया है कि बलबीर सिंह और उसका बेटा कुलदीप सिंह को स्थानीय कोर्ट ने 21 मई तक पुलिस रिमांड में भेजने का आदेश जारी किया है। जब से इस मामले की जांच सो सीबीआई को सौंपे जाने का ऐलान हुआ है.. Special Investigation Team (SIT) के सभी ज़िला अध्यक्षों को जो जांच में शामिल थे उन्हें अब पाए गए तथ्यों की एक रिपोर्ट तैयार करने को कहा गय़ा है जिसे बाद में सीबीआई को सौंपा जाएगा। सोलन पुलिस का कहना है कि अब उसने 11 आरोपियो को गिरफ्तार किया है। वहीं हमीरपुर से चार ऐसे आरोपियों की गिरफ्तारी की गई है जिनपर कांस्टेबल भर्ती परीक्षा पेपर को बेचने का आरोप है। हमीरपुर में उन्हें गिरफ्तार करने के बाद कोर्ट ने आऱोपियों को 20 मई तक पुलिस रिमांड में भेजने का आदेश सुनाया है। हालांकि हमीरपुर पुलिस ने इनकी गिरफ्तारी पहले ही कर ली थी लेकिन ये जानकारी गुप्त रखी गई थी. सूत्रों का कहना है कि हमीरपुर से पकड़े गए चारों आरोपियों ने एख बड़ी रकम लेकर ये पेपर अभ्यर्थियों को बेचे थे। कहा जा रहा है कि 30 लाख आरोपियों के बैंक खातों में जमा कराए गए थे। इन आरोपियों के नाम हैं Galib, Chiranji, Lalit और Abhishek.ये चारों आरोपी Uttarakhand, Uttar Pradesh, Delhi और Bihar के बताए गए हैं। लेकिन इन आरोपियों के बारे में विस्तृत जानकारी पुलिस साझा नहीं कर रही है। आरोपी अभिषेक के बारे में पता चला है कि उसे साल 2019 में भी पुलिस भर्ती फर्जीवाड़े में गिरफ्तार किया गया था। उस दौरान आरोपी अभिषेक ने लिखित परीक्षा देने के लिए अपनी जगह पर एक सॉल्वर को बिठाया था। ताज़ा पुलिस कांस्टेबल भर्ती पेपर लीक मामले में गिरफ्तार किए जाने के बाद आरोपी अभिषेक ने पुलिस के सामने कई खुलासे किए हैं।

एनवन लाईव के लिए धर्मशाला से राहुल चावला की रिपोर्ट

Leave feedback about this

  • Service