August 16, 2022
National Politics

‘भाजपा से समझौता करना चाहते थे ठाकरे’

नई दिल्ली/मुंबई,  महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के समूह ने एक विस्फोटक खुलासे में दावा किया है कि महा विकास अघाड़ी (एमवीए) के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भारतीय जनता पार्टी के साथ समझौता करने और गठबंधन करने के इच्छुक थे।

लोकसभा में शिंदे समूह के नव-नामित शिवसेना नेता राहुल शेवाले ने कहा कि ठाकरे ने कथित तौर पर एक घंटे के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी नेताओं के साथ गठबंधन के मुद्दे पर चर्चा की थी।

शेवाले ने कहा, “हाल ही में हमारी बैठकों में, ठाकरे ने कहा था कि उन्होंने भाजपा के साथ गठबंधन के पुनर्निर्माण के लिए हर संभव प्रयास किए थे, लेकिन ऐसा नहीं कर सके। उन्होंने हमसे (सांसदों) को गठबंधन के लिए अपने प्रयास करने के लिए भी कहा।”

उन्होंने कहा कि शिवसेना ‘अभी भी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का हिस्सा है’ क्योंकि उन्होंने केंद्र में भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन के साथ अपने संबंधों को तोड़ने के लिए कोई पत्र नहीं दिया है।

बयानों ने शिवसेना और उसके सहयोगियों में भारी तूफान ला दिया, जिन्होंने शेवाले के बयानों को खारिज कर दिया।

शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता और सांसद संजय राउत ने दावों को खारिज करते हुए कहा कि बीजेपी ने 2014 और 2019 में गठबंधन तोड़ा था।

राउत ने कहा, “हम 2014 के विधानसभा चुनावों में एक साथ थे, लेकिन भाजपा ने ‘हिंदुत्व गठबंधन’ को तोड़ दिया। बाद में 2019 में, भाजपा ने अपने वादों से मुकरकर नाता तोड़ लिया। हम गठबंधन करना चाहते थे, लेकिन यह भाजपा है जिसने संबंधों को तोड़ दिया। हम इसके लिए जिम्मेदार नहीं हैं।”

उन्होंने आज शिंदे समूह में शामिल हुए शेवाले और अन्य सांसदों से सवाल किया कि उनमें से कितने ने तब बात की जब उद्धव ठाकरे और उनके परिवार को नीच भाषा में बदनाम किया जा रहा था। उन्होंने दोहराया कि सेना प्रमुख ने अपने पार्टी के लोगों से परामर्श करके सभी बड़े निर्णय लिए।

शेवाले के खुलासे को खारिज करते हुए राउत ने कहा कि ठाकरे और मोदी नियमित रूप से बात करते हैं क्योंकि उनके राजनीतिक से परे व्यक्तिगत संबंध हैं, इसलिए ऐसे दावों को कोई महत्व देने की जरूरत नहीं है।

शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने शेवाले के दावों को और अधिक भ्रम पैदा करने के प्रयास के रूप में खारिज कर दिया और घोषणा की कि हम एनडीए के साथ नहीं हैं।

“हमने पिछले ढाई वर्षों में अपने कार्यों से इसे साबित कर दिया है, हमने एनडीए की एक भी बैठक में भाग नहीं लिया है।”

पूर्व मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि मंगलवार को नई दिल्ली में दावा करने वाले व्यक्तियों (शेवाले) के बारे में भी बहुत सारी खबरें चल रही हैं।

आदित्य ने इशारा करते हुए कहा, “यह हमारे और उस पार्टी के लिए उनकी नफरत और ईष्र्या है जो अब सामने आ रही है। जिस बैठक का वे जिक्र कर रहे हैं, उसमें अजीत पवार (राकांपा) और अशोक चव्हाण (कांग्रेस) भी मौजूद थे।”

ऐसी कोई चर्चा विशेष रूप से प्रधानमंत्री और तत्कालीन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच नहीं हुई।

Leave feedback about this

  • Service