August 18, 2022
World

बोरिस जॉनसन को घेरने के लिए एक साथ आए भारतीय और पाकिस्तानी मूल के ब्रिटेन के मंत्री

लंदन,  भारत और पाकिस्तान की सरकारें बेशक एक-दूसरे की कट्टर शत्रु के तौर पर जानी जाती हो, मगर ब्रिटेन में भारत और पाकिस्तान मूल के नेतागण एक बड़े मुद्दे पर एक साथ खड़े हो गए हैं।

प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की ब्रिटिश सरकार में भारतीय और पाकिस्तानी मूल के वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों ने एकजुटता दिखाते हुए जॉनसन को सत्ता से लगभग बेदलख कर दिया है।

स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद और वित्त मंत्री ऋषि सनक ने मंगलवार को कैबिनेट से अपने इस्तीफे की घोषणा की। 10 मिनट के भीतर दोनों मंत्रियों ने पद छोड़ने का एलान कर दिया था।

हालांकि जाविद और सनक दोनों ने जॉनसन को बेदखल करने की साजिश से इनकार किया है, मगर बीबीसी ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि दोनों सप्ताहांत में मिले थे।

बुधवार को, हाउस ऑफ कॉमन्स में साप्ताहिक प्रधानमंत्री के प्रश्न सत्र में विपक्षी लेबर पार्टी के नेता सर कीर स्टारर द्वारा प्रधानमंत्री की कड़ी आलोचना के तुरंत बाद, जाविद ने सदन में अपने इस्तीफे के बारे में एक बड़ा व्यक्तिगत बयान दिया।

उन्होंने कहा, “मैंने निष्कर्ष निकाला है कि समस्या ऊपर से शुरू हुई है और यह बदलने वाली नहीं है। अब बहुत हो गया है।”

बीबीसी ने लिखा, “उन्होंने स्पष्ट शब्दों में यह साफ कर दिया कि उन्हें पार्टीगेट (कोविड-19 महामारी के दौरान जॉनसन के कार्यालय-सह-निवास में कानून तोड़ने वाली पार्टियां) के बारे में झूठ बोला गया था।”

ब्रॉडकास्टर ने इसे जाविद की सत्तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी के सदस्यों के लिए ‘रैलिंग क्राई’ करार दिया। उनके साथी सांसदों ने घोर मौन में उनकी बात सुनी और कई लोगों ने तो इसे लेकर उनकी जय-जयकार भी की।

सनक ने अपने इस्तीफे के पत्र में जॉनसन पर सीधे तौर पर अनौचित्य का आरोप नहीं लगाया। इसके बजाय उन्होंने वैचारिक और नीतिगत मतभेदों पर प्रकाश डाला।

सनक ने अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा, “आप जो हासिल करना चाहते हैं, उसे देने के लिए मैंने हमेशा समझौता करने की कोशिश की है। उन मौकों पर जहां मैं आपसे निजी तौर पर असहमत था, मैंने सार्वजनिक रूप से आपका समर्थन किया है।”

हालांकि, उन्होंने आगे कहा, “हमारे लोग जानते हैं कि अगर कुछ सच होने के लिए बहुत अच्छा है, तो यह सच नहीं है।”

ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद के इस्तीफे के तत्काल बाद भारतवंशी ब्रिटिश वित्त मंत्री सुनक ने ट्विटर पर अपना त्यागपत्र साझा किया। माना जा रहा है कि मंत्रियों का इस्तीफा जॉनसन के नेतृत्व के लिए बड़ा झटका साबित होगा।

सनक ने अपने पत्राचार में उल्लेख किया: “जनता सही ढंग से सरकार से उचित, सक्षम और गंभीरता से संचालन करने की उम्मीद करती है। मैं मानता हूं कि यह मेरी आखिरी मंत्री पद की नौकरी हो सकती है, लेकिन मेरा मानना है कि ये मानक लड़ने लायक हैं और इसलिए मैं इस्तीफा दे रहा हूं।”

अगर सुनक की राजनीति छोड़ने की योजना नहीं है, तो इस लिहाज से कुछ लोगों का मानना है कि वह फिर से मंत्री नहीं होंगे। दरअसल, ऐसी अटकलें हैं कि जॉनसन को पद छोड़ने के लिए मजबूर होने पर उनके उम्मीदवार होने की संभावना है – जो अब हालिया घटनाक्रमों से प्रतीत होता है।

ऐतिहासिक रूप से कंजर्वेटिव पार्टी में, जो खुले तौर पर विद्रोह करता है, वह आमतौर पर उत्तराधिकारी नहीं बनता है।

माइकल हेसेल्टाइन प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर के विरोध में सार्वजनिक हुए थे, लेकिन उनकी जगह नहीं ले पाए। जॉन मेजर, जो कैबिनेट में बने रहे, ने ऐसा किया।

ब्रिटिश सरकार में भारतीय मूल के अन्य कैबिनेट मंत्रियों ने सार्वजनिक रूप से कुछ भी नहीं कहा है।

प्रीति पटेल, जो गृह मंत्री हैं और व्यापक रूप से जॉनसन के लिए खड़ी दिखाई देती हैं, के बारे में बताया गया है कि उन्होंने जॉनसन के प्रति अपनी निरंतर निष्ठा व्यक्त की है। लेकिन वह रिकॉर्ड पर चुप रही हैं।

‘सीओपी 26’ के अध्यक्ष आलोक शर्मा और अटॉर्नी जनरल सुएला ब्रेवरमैन के विचार अज्ञात हैं। तीनों संभावित रूप से पार्टी से किनारा कर सकते हैं। हालांकि सरकार में उनके विवादास्पद और अयोग्य प्रदर्शन को देखते हुए, एक अन्य प्रधानमंत्री के तहत पटेल का भविष्य संदेह में हो सकता है।

बता दें कि ऋषि सुनक भारतीय मूल के हैं और पंजाब से संबंध रखते हैं। वहीं, साजिद जाविद के माता-पिता पाकिस्तानी मूल के हैं।

सनक-जाविद ‘जुगलबंदी’ जानबूझकर डिजाइन की गई है या नहीं, यह तो स्पष्ट नहीं है। हालांकि इन नेताओं की जोड़ी ने जॉनसन के बाहर निकलने में तेजी लाने के लिए उत्प्रेरक के रूप में काम किया है।

Leave feedback about this

  • Service