August 16, 2022
World

सेंट्रल बैंक ने श्रीलंका को दी चेतावनी, स्थिर सरकार के बिना बंद का करना पड़ेगा सामना

कोलंबो,  श्रीलंका के केंद्रीय बैंक के गवर्नर नंदलाल वीरसिंघे ने चेतावनी दी है कि अगर जल्द ही कोई स्थिर सरकार नहीं बनी, तो देश को बंद का सामना करना पड़ेगा। उन्होंने बीबीसी को बताया कि आवश्यक पेट्रोलियम के भुगतान के लिए पर्याप्त विदेशी मुद्रा मिल सकती है या नहीं, इस पर बहुत अनिश्चितता है।

उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बेलआउट पैकेज मिलने की प्रगति स्थिर प्रशासन पर निर्भर करती है।

देश आर्थिक संकट को लेकर बड़े पैमाने पर अशांति की चपेट में है।

गोटाबाया राजपक्षे सिंगापुर भाग गए हैं और कार्यवाहक राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने दूसरे दिन भी कर्फ्यू लगा दिया है।

श्रीलंका ने अपनी अर्थव्यवस्था को चरमराते हुए देखा है और आम लोगों के लिए भोजन, ईंधन और अन्य बुनियादी आपूर्ति की लागत आसमान छू रही है।

बीबीसी ने बताया, कई लोग राजपक्षे प्रशासन को संकट से निपटने के लिए दोषी ठहराते हैं और विक्रमसिंघे को समस्या के हिस्से के रूप में देखते हैं, जो मई में प्रधानमंत्री बने।

नंदलाल वीरसिंघे, (जिन्होंने केवल अप्रैल में केंद्रीय बैंक के गवर्नर के रूप में पदभार संभाला था) ने कहा कि उन्हें स्थिर प्रशासन के बिना आवश्यक चीजें कैसे प्रदान की जाए, इस पर आगे बढ़ने का रास्ता नहीं दिखता है।

उन्होंने कहा, “हम शायद इस महीने के अंत तक डीजल के कम से कम तीन शिपमेंट और पेट्रोल के कुछ एक या दो शिपमेंट का वित्तपोषण करने में सक्षम हैं, लेकिन इसके अलावा, बहुत अनिश्चितता है कि क्या हम इस देश के लिए आवश्यक पेट्रोलियम के वित्तपोषण के लिए पर्याप्त विदेशी मुद्रा प्रदान करने में सक्षम होंगे या नहीं।”

बीबीसी ने बताया, “अगर ऐसा नहीं होता है, तो पूरा देश बंद हो जाएगा। इसलिए मुझे एक प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, कैबिनेट की जरूरत है, जो निर्णय ले सकें। उनके बिना, सभी लोग पीड़ित होंगे।”

वीरसिंघे अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के साथ बेलआउट पर बातचीत कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि ऋण संरचना के लिए लेनदारों के साथ हमारी चर्चा में अच्छी प्रगति करने में सक्षम होंगे, लेकिन उस प्रक्रिया के लिए समय [निर्भर करता है] कितनी जल्दी एक स्थिर प्रशासन होगा।”

Leave feedback about this

  • Service