June 27, 2022
World

विश्व बैंक ने पद्मा ब्रिज फंडिंग को खत्म किया, बांग्लादेश ने खुद के संसाधनों से बनाया : हसीना

ढाका, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार ने ‘लोगों के जीवन की रक्षा के लिए हर कदम उठाया है’ क्योंकि उन्होंने बताया कि कैसे विश्व बैंक द्वारा फंडिंग वापस लिए जाने के बाद अपने संसाधनों से पद्मा ब्रिज का निर्माण किया।

अपने आधिकारिक निवास गणभवन में आयोजित अवामी लीग सलाहकार परिषद की बैठक में उन्होंने कहा कि एक कनाडाई अदालत ने पद्मा ब्रिज परियोजना के बारे में सभी आरोपों को झूठा और निराधार घोषित किया, हालांकि नोबेल पुरस्कार विजेता डॉ. मोहम्मद यूनुस ने विश्व बैंक द्वारा इसके वित्तपोषण के खिलाफ पैरवी की। प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार चुनौती का सामना कर सकती है, क्योंकि वह अपने उद्देश्य में ईमानदार हैं। उन्होंने कहा, “हमने अपने पैसे से उस पुल का निर्माण किया है। साथ ही मैं 25 जून को इसका उद्घाटन करूंगी।”

उन्होंेने कहा, “बांग्लादेश बहुत बदल गया है .. बांग्लादेश ने साबित कर दिया है कि वह अब पद्मा ब्रिज के निर्माण के लिए स्व-वित्तपोषित है, विदेशी फंडिंग पर निर्भर नहीं है।” उन्होंने यूनुस पर सिर्फ ग्रामीण बैंक के प्रबंध निदेशक का पद संभालने के लिए मातृभूमि के खिलाफ साजिश करने का आरोप लगाया। हसीना ने कहा, “वह अवैध रूप से 71 वर्ष की आयु में ग्रामीण बैंक के एमडी पद पर रहे। उन्होंने मामले के संबंध में एक मामला दर्ज कराया और मुकदमा हार गए।”

बैठक की शुरुआत में राष्ट्रपिता बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान, चार राष्ट्रीय नेताओं, 15 अगस्त नरसंहार के शहीदों और सलाहकार परिषद के दिवंगत सदस्यों की याद में एक मिनट का मौन रखा गया। सत्तारूढ़ दल की अध्यक्ष हसीना ने कहा कि अवामी लीग सरकार बनाने के बाद अपने चुनावी वादों को कभी नहीं भूलती।

उन्होंने कहा, “हर बार बजट बनाते समय हम मूल्यांकन करते हैं कि हमने चुनावी वादों को लागू करने के लिए कितनी प्रगति की है। हम इस बात पर भी विचार करते हैं कि अधूरे चुनावी वादों को कैसे लागू किया जाए।” उन्होंने कहा कि सरकार जमीनी स्तर के लोगों का विकास कर आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल कर देश को आगे बढ़ा रही है।

Leave feedback about this

  • Service