July 16, 2024
Punjab

अमृतपाल सिंह खालिस्तानी समर्थक नहीं, उन्हें तुरंत रिहा किया जाना चाहिए: उनकी मां

जेल में बंद अमृतपाल सिंह, जिन्होंने शुक्रवार को संसद सदस्य के रूप में शपथ ली, की मां ने कहा कि उनका बेटा खालिस्तानी समर्थक नहीं है और उन्होंने मांग की कि उसे तुरंत रिहा किया जाए ताकि वह उन मुद्दों पर काम कर सके जिन पर उसने चुनाव लड़ा था।

इस बीच, अमृतसर में सिंह के पैतृक गांव जल्लुपुर खेड़ा और खडूर साहिब संसदीय क्षेत्र में जश्न मनाया गया, जहां लोगों ने उनके शपथ ग्रहण के बाद मिठाइयां बांटी।

सिंह और कश्मीरी नेता शेख अब्दुल राशिद, जिन्हें लोकसभा सदस्य के रूप में शपथ लेने के लिए पैरोल दी गई थी, ने संसद परिसर और उसके आसपास भारी सुरक्षा के बीच सांसद के रूप में शपथ ली।

औपचारिकताएं पूरी करने के बाद उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष के कक्ष में शपथ ली। उन्हें आज सुबह सुरक्षाकर्मियों द्वारा संसद परिसर लाया गया।

सिंह राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत अपराध के लिए असम के डिब्रूगढ़ जिले की जेल में बंद हैं। शपथ ग्रहण के लिए उन्हें चार दिन की कस्टडी पैरोल पर असम से दिल्ली लाया गया था।

अमृतसर में पत्रकारों से बात करते हुए सिंह की मां बलविंदर कौर ने भगवान का शुक्रिया अदा किया और कहा कि उनके शपथ ग्रहण के बाद संगत खुश है और जश्न मना रही है।

कौर ने अपने आवास पर कहा, “हम मांग करते हैं कि उन्हें तुरंत रिहा किया जाए ताकि वह समर्थकों को धन्यवाद दे सकें और उन मुद्दों पर काम कर सकें जिनके आधार पर चुनाव जीता गया था।”

उन्होंने कहा कि उनके बेटे के समर्थक लगातार पूछ रहे हैं कि वह जेल से कब बाहर आएगा। उन्होंने कहा, “हम सरकार से आग्रह करते हैं कि उसे तुरंत रिहा किया जाना चाहिए।”

एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि लोगों ने उन्हें इस उम्मीद के साथ वोट दिया था कि वह उनके कल्याण के लिए काम करेंगे।

उन्होंने कहा, “चुनाव जिन मुख्य मुद्दों पर लड़े गए, वे थे मादक पदार्थों की समस्या और ‘बंदी सिंहों’ की रिहाई।”

उन्होंने कहा, “वह निर्दोष है, युवाओं को नशे से दूर रखना गलत नहीं है।”

एक अन्य सवाल के जवाब में कौर ने कहा, “वह खालिस्तानी समर्थक नहीं हैं। पंजाब के अधिकारों की बात करके और पंजाब के युवाओं को (नशे से) बचाने से क्या कोई खालिस्तान का समर्थक बन सकता है।”     

उन्होंने कहा, “उन्होंने संविधान के दायरे में चुनाव लड़ा और शपथ ली। किसी को ऐसी बात नहीं कहनी चाहिए। वह पंजाब के मुद्दे उठाएंगे और युवाओं को (नशे से) बचाएंगे।

उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि उनके बेटे को अन्य सदस्यों के साथ शपथ नहीं दिलाई गई।

एक अन्य प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि वह शीघ्र ही अपने बेटे से मिलेंगी। 

Leave feedback about this

  • Service