June 21, 2024
Entertainment

सायनाइड मोहन/’दहाड़’, बॉम्बे टॉकीज/’जुबिली’: असल जिंदगी की सच्ची कहानियां

मुंबई, जो लोग उनकी असल जीवन की कहानी से वाकिफ हैं उनसे वेब सीरीज ‘दहाड़’ में आनंद वर्मा का इविल कैरेक्टर आनंद स्वर्णकार और कुख्यात सीरियल किलर ‘साइनाइड मोहन’ के बीच की समानता छिपी नहीं है। हालांकि, ‘दहाड़’ शो के इनस्पीरेशन को लेकर निमार्ताओं – जोया अख्तर और रीमा कागती के एक्सेल एंटरटेनमेंट – की चुप्पी चौंकाने वाली है।

मोहन कुमार विवेकानंद उर्फ ‘साइनाइड मोहन’ 1980 और 2003 के बीच एक मृदुभाषी शारीरिक शिक्षा शिक्षक थे, जो 2009 में कर्नाटक के मंगलुरु के बाहर अपने पुश्तैनी गांव में गिरफ्तार किए गए थे। दहाड़ में आनंद स्वर्णकार राजस्थान में एक महिला कॉलेज में हिंदी पढ़ाते हैं। लेकिन दोनों के बीच की असमानताएं यहीं समाप्त हो जाती हैं।

‘साइनाइड मोहन’ को आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों की महिलाओं से शादी करने, उनके साथ एक रात बिताने के बाद साइनाइड युक्त गर्भनिरोधक गोलियों का उपयोग करके उनकी हत्या करने और सार्वजनिक शौचालयों में शादी का जोड़ा पहने उनके शरीर को फेंकने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। उसने इस अपराध को 20 बार दोहराया। परिचित लगता है?

सीरियल किलर अपने पीड़ितों को गर्भ निरोधक के नाम पर अनजाने में साइनाइड खिलाने के अपने तरीकों का लगातार इस्तेमाल करता रहा ताकि उनके शरीर पर ऐसा कोई निशान न हो जिससे यह संकेत मिले कि वे अप्राकृतिक मौत से मरी थीं।

‘सायनाइड मोहन’ को चार मामलों में मौत की सजा और 15 अन्य मामलों में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। उसे आखिरी बार 2020 में केरल की एक महिला के साथ बलात्कार और हत्या का दोषी ठहराया गया था, जो उसकी 20वीं शिकार थी।

चार मामलों में उसे दी गई मौत की सजा को बाद में आजीवन कारावास में बदल दिया गया, जिसे वह कर्नाटक के बेलगावी में हिंडाल्गा केंद्रीय कारागार में काट रहा है।

यदि दहाड़ के निमार्ता दहाड़ के लिए सबसे अधिक संभावित प्रेरणा के बारे में चुप रहे हैं, तो विक्रमादित्य मोटवानी की जुबली और बॉम्बे टॉकीज के संस्थापक हिमांशु रॉय तथा देविका रानी और उनके स्टार अशोक कुमार के जीवन के बीच स्पष्ट समानता के बारे में भी इसी तरह की चुप्पी थी।

जिस किसी ने भी वेब सीरीज देखी है, वह जानता होगा कि तीन प्रमुख पात्र – स्टूडियो मुगल सुकांत रॉय, प्रोसेनजीत चटर्जी द्वारा निभाए गए; उनकी अभिनेत्री-पत्नी सुमित्रा कुमारी (अदिति राव हैदरी); और प्रयोगशाला सहायक बिनोद दास से प्रमुख अभिनेता बने मदन कुमार (अपारशक्ति खुराना) – बॉम्बे टॉकीज की तीन प्रमुख हस्तियों से प्रेरित हैं, जिन्होंने अशोक कुमार के अलावा दिलीप कुमार और मधुबाला के करियर को लांच किया।

ये समानताएं सतही नहीं हैं – यहां तक कि देविका रानी का प्रचंड रोमांस और उनका जीवन नैया के सह-कलाकार नज्म-उल-हसन के साथ बाद में भाग जाना, जुबली के शुरुआती एपिसोड का क्रक्स बनाता है, जिसमें नंदीश संधू ने जमशेद खान और हैदरी ने सुमित्रा की भूमिका निभाई है।

न तो मोटावने न ही जुबली की स्ट्रीमिंग करने वाले ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजॅन प्राइम ने दो कहानियों की स्पष्ट समानता के बारे में एक शब्द भी कहा है।

Leave feedback about this

  • Service