June 21, 2024
Himachal

जंगल की आग पर काबू, हिमाचल सरकार ने वायुसेना की मदद लेने से किया इनकार

चंडीगढ़/शिमला, 8 जून हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में व्यापक बारिश और राज्य सरकार की यह धारणा कि स्थिति उनके नियंत्रण में है, ने राज्य में जंगलों में लगी आग को बुझाने के लिए वायुसेना से सहायता लेने की ज़रूरत को खत्म कर दिया। अतीत में, राज्य सरकार ने जंगलों में लगी आग को बुझाने के लिए कई बार वायुसेना के हेलीकॉप्टरों को बुलाया था।

हिमाचल प्रदेश के प्रधान मुख्य वन संरक्षक राजीव कुमार ने द ट्रिब्यून को बताया, “भारतीय वायुसेना को बुलाने का विकल्प मौजूद है, लेकिन जब कोई दूसरा विकल्प काम न करे तो यह आखिरी विकल्प है। यह न तो सस्ता है और न ही जल्दी उपलब्ध है।” इसके अलावा, भारतीय मौसम विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले सप्ताह पूरे राज्य में बारिश इस अवधि के लिए औसत से लगभग 25 प्रतिशत अधिक रही है। 30 मई से 6 जून तक, राज्य के लगभग हर जिले में अलग-अलग मात्रा में बारिश हुई, भले ही कुछ क्षेत्रों में यह कम रही।

यह न तो सस्ता है और न ही जल्दी उपलब्ध है वायु सेना को बुलाने का विकल्प मौजूद है, लेकिन जब कोई और विकल्प काम न करे तो यह आखिरी विकल्प है। यह न तो सस्ता है और न ही जल्दी उपलब्ध है। इसका इस्तेमाल चरम मामलों में किया जाता है और हमारे यहां आग नहीं लगी, जिसे हम नियंत्रित नहीं कर सके। -राजीव कुमार, प्रधान मुख्य वन संरक्षक

2022 की गर्मियों में, कसौली में भीषण जंगल की आग को नियंत्रित करने के लिए भारतीय वायुसेना के हेलीकॉप्टरों का बड़े पैमाने पर उपयोग किया गया था, जो कि इस टाउनशिप में वायु सेना स्टेशन के बिल्कुल किनारे तक पहुंच गई थी, जो एक महत्वपूर्ण संचार केंद्र है।

भारतीय वायुसेना के एमआई-17 हेलीकॉप्टरों ने दर्जनों उड़ानें भरीं, जिनमें अंडरस्लंग बाम्बी बाल्टियों का उपयोग करके कई किलोमीटर तक फैली आग पर सैकड़ों गैलन पानी डाला गया।

कसौली के आस-पास की पहाड़ियाँ इस मौसम में जंगलों में लगी आग के सबसे बड़े गवाहों में से एक हैं। पिछले महीने ही उत्तराखंड में वायुसेना के हेलीकॉप्टरों को कई दिनों तक ऐसे ही काम के लिए तैनात किया गया था।

हर साल, भारतीय वायुसेना को कई बार जंगल की आग से निपटने में मदद के लिए विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा बुलाया जाता है। इस प्रक्रिया में नागरिक प्रशासन गृह मंत्रालय को अपना अनुरोध भेजता है, जो आगे रक्षा मंत्रालय के पास जाता है। रक्षा मंत्रालय इसे वायु सेना मुख्यालय को भेजता है, जहाँ से यह कमांड मुख्यालय में जाता है, जो संबंधित परिचालन हेलीकॉप्टर इकाई को कार्य सौंपता है।

Leave feedback about this

  • Service