June 21, 2024
World

भारत की नजरें मानवता के लिए असीमित संभावनाओं पर हैं : रुचिरा कंबोज

संयुक्त राष्ट्र “चंद्रमा को लक्ष्य बनाकर भारत न केवल उस तक पहुंच गया है, बल्कि आगे की असीमित संभावनाओं पर भी हमारी नजर है, ‘अनंत और उससे भी आगे’।” यह बात संयुक्‍त राष्‍ट्र में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने कही।

कंबोज ने कहा, चंद्रमा पर चंद्रयान -3 की सफल लैंडिंग 1.4 बिलियन भारतीयों की आकांक्षाओं का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि “यह मानवता के लिए एक ऐतिहासिक क्षण है, क्योंकि हम चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास अज्ञात क्षेत्र में प्रवेश कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा,” भारत चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाला पहला देश है, जहां कई अन्य लोग अब तक सफल नहीं हुए हैं।”

यहां संवाददाता सम्मेलन से पहले, भारत को संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस और महासभा अध्यक्ष सीसाबा कोरोसी ने बधाई दी।

ब्राजील, रूस, भारत और दक्षिण अफ्रीका समूह की ब्रिक्स बैठक के लिए जोहान्सबर्ग में मौजूद गुटेरेस की ओर से बधाई देते हुए उनके सहयोगी प्रवक्ता फ्लोरेंसिया सोटो नीनो ने संयुक्त राष्ट्र की दोपहर की ब्रीफिंग में कहा, “यह एक बड़ी उपलब्धि है।”

उन्होंने कहा, “हम भारत को अंतरिक्ष अन्वेषण में बड़ी सफलता की शुभकामना देते हैं।”

कोरोसी के प्रवक्ता पुलिना कुबियाक ने कहा कि उन्होंने भारत को बधाई दी और उनके कार्यालय के भीतर, “कई भारतीय सहयोगी इस उपलब्धि का जश्न मना रहे हैं।”

संयुक्‍त राष्‍ट्र्र में संयुक्‍त राज्य अमेरिका के स्थायी प्रतिनिधि लिंडा थॉमस-ग्रीनफील्ड ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर एक पोस्ट में भारत को बधाई दी और कहा, “अमेरिका-भारत अंतरिक्ष सहयोग को और गहरा करने के लिए तत्पर हैं।”

संयुक्त राष्ट्र के विभिन्न उद्देश्यों में योगदान देने वाले भारत के चंद्र मिशन में से, कंबोज ने लैंगिक समानता के सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) पर प्रकाश डाला।

उन्होंने कहा, “भारत के चंद्रमा मिशन चंद्रयान-3 पर काम करने वाले वैज्ञानिकों में बड़ी संख्या में महिलाएं हैं, जो महिलाओं के नेतृत्व वाले विकास के भारत के मॉडल के साथ काफी मेल खाती हैं और एसडीजी 5 के साथ भी खूबसूरती से जुड़ रही हैं, जो लैंगिक समानता के बारे में है।”

उन्होंने कहा, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बात पर जोर दिया है कि सफलता हम सभी की है और इससे पूरी मानवता को फायदा होगा।

भारत के अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष सहयोग के संदर्भ में कंबोज ने कहा, “भारत और मानव जाति के लिए इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) ने कई रॉकेट और उपग्रह लॉन्च किए हैं।”

उन्होंने कहा, “इसरोस के अपने चंद्र और अंतरग्रहीय मिशन, जिसमें नवीनतम चंद्रयान -3 भी शामिल है, अन्य वैज्ञानिक परियोजनाओं के साथ, विज्ञान शिक्षा को प्रोत्साहित और बढ़ावा देते हैं।”

विकासशील देशों के लिए चंद्र लैंडिंग के महत्व पर कंबोज ने मोदी को उद्धृत करते हुए कहा, “मुझे विश्वास है कि दुनिया के सभी देश ऐसी उपलब्धियां हासिल करने में सक्षम हैं। हम सभी चंद्रमा और उससे आगे की आकांक्षा कर सकते हैं।”

एक रिपोर्टर ने कंबोज से पूछा कि क्या वह “इस महत्वपूर्ण मील के पत्थर को चिह्नित करने के लिए” महासभा या अन्य संगठनों से एक प्रस्ताव पेश करने का इरादा रखती हैं।

उन्‍होेंनेे जवाब दिया, “हमारे दिमाग में यह विचार डालने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। मैं इस पर आपके पास दोबारा आऊंगी।”

Leave feedback about this

  • Service