June 23, 2024
Punjab

अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में ऑपरेशन ब्लूस्टार की बरसी शांतिपूर्वक मनाई गई

कट्टरपंथी सिख संगठनों द्वारा खालिस्तान के समर्थन में हल्की नारेबाजी को छोड़कर, ऑपरेशन ब्लूस्टार की 40वीं वर्षगांठ अमृतसर के स्वर्ण मंदिर परिसर में खचाखच भरे अकाल तख्त परिसर में शांतिपूर्वक संपन्न हुई।

कार्यक्रम के दौरान तलवारें नहीं लहराई गईं और न ही कोई हिंसक प्रदर्शन हुआ।

हाल के चुनावों में संगरूर लोकसभा सीट हारने वाले शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) के अध्यक्ष सिमरनजीत सिंह मान के नेतृत्व में उसके समर्थक उन लोगों में शामिल थे, जिन्होंने ऑपरेशन ब्लूस्टार के बाद जरनैल सिंह भिंडरावाले और अकाल तख्त के क्षतिग्रस्त ढांचे के पोस्टर ले रखे थे और कुछ मिनटों तक खालिस्तान के समर्थन में नारे लगाए।

श्री गुरु ग्रंथ साहिब के गोलियों से छलनी स्वरूप को देखने के बाद आम श्रद्धालुओं में काफी उत्साह था। यह स्वरूप 1984 में ऑपरेशन ब्लूस्टार के दौरान ‘घायल’ हो गया था और इसे अकाल तख्त के ठीक पीछे स्थित गुरुद्वारे में प्रदर्शित किया गया था। स्वर्ण मंदिर के गर्भगृह में स्थापित इस स्वरूप को ऑपरेशन के दौरान गोली लगी थी। शीर्षक कवर पर चिपकाए जाने से पहले यह स्वरूप अपने 25 ‘अंगों’ (पृष्ठों) को छेदता है। प्रदर्शन में गोली का वह विशेष खोल भी रखा गया था।

इस बीच, अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी रघुबीर सिंह ने अकाल तख्त मंच से पारंपरिक संदेश पढ़ा। 

इतिहास को याद करते हुए जत्थेदार ने बताया कि कैसे सिखों ने अपने अधिकारों के लिए और मुगल काल के शासकों के अत्याचारों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और स्वर्ण मंदिर परिसर में ऑपरेशन ब्लूस्टार, उसके बाद विभाजन के बाद एक और ऑपरेशन वुड्रोज (पंजाब क्षेत्र में सशस्त्र विद्रोह को रोकने के लिए तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा किया गया) चलाया गया। उन्होंने सिखों से सिख विरोधी ताकतों के खिलाफ एकजुट होने की अपील की।

Leave feedback about this

  • Service