June 21, 2024
National

रामोजी राव का निधन पत्रकारिता और सिनेमा के क्षेत्र में बड़ी क्षति : आरएसएस

नई दिल्ली, 8 जून । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने ईनाडु और रामोजी फिल्म सिटी के संस्थापक रामोजी राव के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए उनके निधन को पत्रकारिता और सिनेमा के क्षेत्र में एक बड़ी क्षति बताया है। संघ ने ईश्वर से दिवंगत आत्मा को सद्गति प्रदान करने की प्रार्थना करते हुए यह भी कहा कि पत्रकारिता और सिनेमा के क्षेत्र में उनकी अग्रणी भूमिका और योगदान को लंबे समय तक याद रखा जाएगा।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले ने रामोजी राव के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए बयान जारी कर कहा, “ईनाडु और रामोजी फिल्म सिटी के संस्थापक रामोजी राव का निधन मुख्यतः पत्रकारिता और सिनेमा के क्षेत्र में एक बड़ी क्षति है। इन क्षेत्रों में अनूठी विशेषताओं और परंपराओं को जोड़ने में उनकी अग्रणी भूमिका और उनके योगदान को लंबे समय तक याद रखा जाएगा।”

दत्तात्रेय होसबाले ने आगे कहा, “उनके शोक-संतप्त परिवार और अनगिनत प्रशंसकों के प्रति अपनी हार्दिक संवेदनाएं व्यक्त करते हुए हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि दिवंगत आत्मा को सद्गति प्रदान करें। ॐ शांन्तिः॥”

आपको बता दें कि रामोजी फिल्म सिटी और ईनाडु के संस्थापक रामोजी राव का हैदराबाद में शनिवार की सुबह 87 वर्ष की आयु में निधन हो गया। पद्म विभूषण से सम्मानित रामोजी राव पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे। कुछ दिन पहले ही स्वास्थ्य खराब होने पर उन्हें हैदराबाद के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हैदराबाद के स्टार अस्पताल में शनिवार सुबह 3:45 बजे उनका निधन हो गया।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, राजनाथ सिंह और ओम बिरला सहित विभिन्न राजनीतिक दलों के दिग्गज नेताओं और राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी उनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामोजी राव के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा है कि उन्होंने पत्रकारिता और फिल्मी दुनिया पर अमिट छाप छोड़ी है। पीएम मोदी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर रामोजी राव के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा, “रामोजी राव गारू का निधन बेहद दुखद है। वह एक दूरदर्शी व्यक्ति थे जिन्होंने भारतीय मीडिया में क्रांति ला दी। उनके समृद्ध योगदान ने पत्रकारिता और फिल्मी दुनिया पर अमिट छाप छोड़ी है। उनके अथक प्रयासों की वजह से उन्होंने मीडिया और इंटरटेनमेंट वर्ल्ड में इनोवेशन और एक्सीलेंस को लेकर नए मानक तय किए। रामोजी राव गारू भारत के विकास को लेकर बेहद भावुक थे। मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे उनके साथ बातचीत करने और उनकी बुद्धिमत्ता से लाभ उठाने के कई अवसर मिले। इस कठिन समय में उनके परिवार, दोस्तों और अनगिनत प्रशंसकों के प्रति संवेदना। शांति।”

Leave feedback about this

  • Service