June 23, 2024
Sports

धावक अमोज जैकब ने पेरिस ओलंपिक बर्थ के लिए बहमास में एक महीने के ठहराव को दिया श्रेय

 

नई दिल्ली, पेरिस ओलम्पिक का टिकट पाने वाली भारत की चार गुना 400 मीटर पुरुष रिले टीम के सदस्य अमोज जैकब ने इसका श्रेय बहमास में एक महीने के लम्बे ठहराव को दिया है।

मोहम्मद अनस याहिया, मोहम्मद अजमल, अरोकिया राजीव और जैकब की भारतीय चौकड़ी 3:03.23 का समय लेकर बहमास के नसाउ में विश्व रिले चैंपियनशिप के ओलंपिक क्वालिफाइंग राउंड दो में अमेरिकी टीम के बाद दूसरे स्थान पर रही।

जमैका के जैसन डॉसन द्वारा प्रशिक्षित और भारतीय खेल प्राधिकरण द्वारा वित्तीय रूप से समर्थित टीम माहौल से अभ्यस्त होने के लिए प्रतियोगिता से एक महीने पहले बहमास पहुंच गयी थी।

रिले का आखिरी चरण दौड़ने वाले जैकब ने साई मीडिया सेे पेरिस के लिए क्वालीफाई करने के बारे में और पिछले वर्ष विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में टीम के जादुई प्रदर्शन के बारे में खुलकर बातचीत की जब टीम दो बार तीन मिनट से कम का समय निकालकर पांचवें स्थान पर रही।

जैकब ने कहा,”बहमास के माहौल से अभ्यस्त होना उपयोगी था। टाइम जोन का अंतर हमारे लिए चीजें मुश्किल कर देता। यह अच्छा था कि हम एक महीने पहले बहमास पहुंच गए। हम दो सप्ताह पहले ही प्रतियोगिता के लिए तैयार हो गए थे। हम मुकाबले में उतरे और हमने क्वालीफाई कर लिया।”

उन्होंने कहा,” मेरे शरीर ने मौसम की परिस्थितियों और समय के अंतर से अभ्यस्त होने में लगभग एक सप्ताह का समय लिया। मैं दोपहर में सो रहा था और समय अंतर के कारण रात में नींद नहीं आती थी। पूरी टीम को यह परेशानी थी लेकिन अच्छा रहा कि हम एक महीने पहले बहमास पहुंच गए। हालांकि एक ही बीच को रोज देखना कुछ बोरिंग हो रहा था। ”

जैकब ने कहा,”हमारा मुख्य लक्ष्य पेरिस के लिए क्वालीफाई करना था। यह दुर्भाग्यपूर्ण था कि राजेश रमेश को ओलंपिक क्वालिफाइंग राउंड एक में हैमस्ट्रिंग चोट लग गयी, वरना टीम आसानी से तीन मिनट से कम का समय निकाल लेती। इसके बावजूद हमने ओलंपिक की टिकट हासिल की जो ज्यादा प्रेरणादायक है।

राजेश रमेश की चोट के बाद अरोकिया राजीव ने टीम में उनकी जगह ली लेकिन यह परिवर्तन मुश्किल नहीं रहा क्योंकि अरोकिया राजीव टीम के साथ ट्रेनिंग कर रहे थे।

जैकब ने कहा, “यह आसान था क्योंकि हम एक साथ अभ्यास कर रहे थे और हमने विभिन्न संयोजनों के साथ बैटन एक्सचेंज का प्रशिक्षण लिया था। एकमात्र चिंता यह सुनिश्चित करना था कि कोई और चोटिल न हो। वास्तव में, यह 100 मीटर रिले से भी आसान था जहां बेहतर समन्वय की आवश्यकता होती है। इसलिए, यह हमारे लिए एक आसान बदलाव था क्योंकि राजीव लंबे समय से हमारे साथ थे, वह हमारे वरिष्ठ थे, इसलिए उन्हें पता था कि क्या उम्मीद करनी है और क्या नहीं।”

26 वर्षीय एथलीट ने कहा कि पिछले साल बुडापेस्ट में तीन मिनट से भी कम समय के ऐतिहासिक प्रदर्शन के बाद टीम काफी दबाव में थी।

“अब ऐसा कोई दबाव नहीं था, लेकिन विश्व चैंपियनशिप फाइनल और एशियाई खेलों के दौरान यह अत्यधिक दबाव था। हम जानते थे कि हमारी हीट में अमेरिका था और वे ज्यादातर 3 मिनट से कम समय लेते हैं। इसलिए, हमारी योजना उनके करीब रहने की थी ताकि न केवल हमारा समय बेहतर हो बल्कि हमें पेरिस खेलों के लिए क्वालीफाई करने में भी मदद मिले।”

Leave feedback about this

  • Service