July 16, 2024
Himachal

शिमला के डॉक्टरों ने राज्य की पहली जबड़े की जोड़ प्रतिस्थापन सर्जरी की

शिमला, 5 जुलाई हिमाचल प्रदेश के सरकारी डेंटल कॉलेज (एचपीजीडीसी) के सर्जनों ने राज्य की पहली द्विपक्षीय टोटल टेम्पोरोमैंडिबुलर जॉइंट रिप्लेसमेंट (टीएमजे) सर्जरी की है। यह ऐतिहासिक प्रक्रिया क्षेत्र में मैक्सिलोफेशियल सर्जरी के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण प्रगति को दर्शाती है।

लखनऊ के 22 वर्षीय मरीज के लिए यह जीवन बदलने वाला अनुभव साबित हुआ, जो पिछले आठ वर्षों से अपना मुंह खोलने, खाना खाने या ठीक से बोलने में असमर्थ था, क्योंकि वह टीएमजे एंकिलोसिस नामक एक दुर्लभ बीमारी से पीड़ित था।

मरीज़ के जबड़े की दो बड़ी सर्जरी पहले ही हो चुकी हैं, लेकिन कोई फ़ायदा नहीं हुआ। 10 घंटे की सर्जरी में जुड़े हुए जोड़ को बदला गया और दोनों तरफ़ मरीज़ के लिए ख़ास जोड़ को ठीक किया गया, जिससे मरीज़ को बहुत फ़ायदा हुआ और अब वह अपना मुंह 3 सेमी तक खोल सकता है। साथ ही, मरीज़ ने बिना किसी परेशानी के खाना और बोलना भी शुरू कर दिया है।

इस सर्जरी की योजना और क्रियान्वयन डॉ. रंगीला राम के नेतृत्व में सर्जनों की एक टीम और डॉ. योगेश भारद्वाज के मार्गदर्शन में एचपीजीडीसी में उनकी टीम द्वारा किया गया।

टीएमजे सर्जरी में टेम्पोरोमैंडिबुलर जोड़ को विशेष रूप से निर्मित कृत्रिम जोड़ से प्रतिस्थापित किया गया, जिससे रोगी की बिना दर्द के चबाने, बोलने और जबड़े हिलाने की क्षमता बहाल हो गई।

डॉ. रंगीला राम ने कहा कि सर्जरी का सफल समापन न केवल एचपीजीडीसी के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है, बल्कि जटिल टीएमजे विकारों से पीड़ित रोगियों के लिए नई उम्मीद भी लेकर आया है। उन्होंने कहा, “उन्नत सर्जिकल प्रक्रिया उन रोगियों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करती है, जिन्होंने अन्य सभी उपचार विकल्पों को समाप्त कर दिया है।”

उन्होंने कहा, “यह सर्जरी स्वास्थ्य देखभाल नवाचार में एक महत्वपूर्ण कदम है, जो संस्थान को भारत में मैक्सिलोफेशियल सर्जरी में अग्रणी स्थान दिलाएगी।”

जटिल प्रक्रिया यह प्रक्रिया घुटने या कूल्हे के प्रतिस्थापन के समान है, लेकिन इस सर्जरी में सटीकता, धैर्य और विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है क्योंकि जबड़े का जोड़ एक छोटा और जटिल जोड़ होता है जो खोपड़ी के आधार, कान और चेहरे जैसी महत्वपूर्ण संरचनाओं के करीब स्थित होता है।

Leave feedback about this

  • Service