July 20, 2024
World

चंद्रमा पर उतरने की भारत की शानदार उपलब्धि को दुनिया ने सराहा

वाशिंगटन, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ईएसए) ने बुधवार को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान-3 को उतारने की शानदार उपलब्धि पर भारत को बधाई दी। इस ऐतिहासिक घटना को दुनिया के हर समाचार नेटवर्क का कवरेज मिला है।

दुनिया ने भारत की सराहना इसलिए की, क्योंकि यह अमेरिका, रूस और चीन के बाद चंद्रमा पर अंतरिक्ष यान उतारने वाला चौथा और चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाला पहला देश बन गया है।

चंद्रयान-3 के जरिए चंद्रमा पर लैंडर विक्रम की सॉफ्ट लैंडिंग से लेकर इसरो द्वारा इसकी पुष्टि किए जाने तक की तस्वीरें जारी किए जाने के एक घंटा बाद ईएसए ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर लिखा, “इसरो और टीम को बधाई”।

एक्स प्रसन्न भारतीयों और अमेरिका में अंतरिक्ष उद्योग से जुड़े निजी वैज्ञानिक संस्थानों की टिप्पणियों से भरा हुआ था। अमेरिका में 40 लाख भारतीय खुशी की इस खबर और उपलब्धि पर गर्व महसूस किया, जो इससे पहले दुनिया के केवल तीन शक्तिशाली देशों ने हासिल की थी।

यूएसए टुडे, जो अमेरिका में सर्कुलेशन में नंबर एक होने का दावा करता है, ने इस घटना की रिपोर्ट इस प्रकार की : “चंद्रयान-3 बुधवार को चंद्रमा पर सफलतापूर्वक उतरा, जिससे भारत चंद्रमा की सतह पर अंतरिक्ष यान उतारने वाले चौथे देश के रूप में इतिहास में दर्ज हो गया।”

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास उतरने के लक्ष्य के साथ एक महीने पहले चंद्रयान-3 लॉन्च किया था, जहां बुधवार को इसकी सॉफ्ट लैंडिंग हुई।

यह मिशन दक्षिणी ध्रुव के पास किसी भी देश की पहली लैंडिंग और भारत की चांद पर पहली लैंडिंग है।

एक ब्रिटिश समाचार एजेंसी ने इस आयोजन की सराहना करते हुए कहा : “चंद्रयान -3 का लक्ष्य चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव, बर्फ या जमे हुए पानी वाला एक क्षेत्र है जो भविष्य के चंद्रमा मिशनों या स्थायी मून कॉलोनी के लिए ऑक्सीजन, ईंधन और पानी का स्रोत हो सकता है।”

चंद्रयान-3 के दो सप्ताह तक क्रियाशील रहने की उम्मीद है, जिसमें चंद्रमा की सतह की खनिज संरचना के स्पेक्ट्रोमीटर विश्लेषण सहित कई प्रयोग चलेंगे।

चंद्रयान-3 लैंडर लगभग 2 मीटर लंबा है और इसका वजन 1,700 किलोग्राम से थोड़ा अधिक है, जो लगभग एक एसयूवी के बराबर है। इसे एक छोटे, 26 किलोग्राम के चंद्र रोवर को तैनात करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

नासा के प्रशासक बिल नेल्सन ने कहा कि अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी भारतीय मिशन से क्या सीखेगी, इसकी “उम्मीद” कर रही है।

ब्रिटेन के राष्ट्रीय प्रसारक बीबीसी ने इस शीर्षक के साथ इस आयोजन की सराहना की- “भारत ने दक्षिणी ध्रुव के पास चंद्रयान-3 को उतारकर इतिहास रचा”।

नासा के अनुसार, चंद्रमा का दक्षिणी ध्रुव “रहस्य, विज्ञान और साज़िश” से भरा है। ऐसे गहरे गड्ढे हैं जो अरबों वर्षों से सूरज की रोशनी से बचे हुए हैं, जहां तापमान आश्चर्यजनक रूप से -248सी (-414एफ) तक गिर सकता है।

वैज्ञानिक चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के आसपास के क्षेत्र में क्‍या है, इसका पता लगाना चाहते हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि पानी लाखों वर्षों से ठंडे ध्रुवीय क्षेत्रों में जमा हुआ होगा और यह मिशन वैज्ञानिकों को हमारे सौर मंडल में पानी के इतिहास का विश्‍लेषण करने और समझने के लिए एक अनूठा नमूना प्रदान कर सकता है।

एक अमेरिकी समाचार एजेंसी ने इस घटना की सराहना करते हुए कैप्शन दिया : “भारत ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास एक अंतरिक्ष यान उतारा, यह दुनिया के लिए पहली बार है, क्योंकि यह विशिष्ट क्लब में शामिल हो गया है।”

एजेंसी ने आगे कहा : “भारत ने बुधवार को इतिहास रच दिया, क्योंकि वह चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास अपना अंतरिक्ष यान उतारने वाला दुनिया का पहला देश बन गया, जो एक अज्ञात क्षेत्र है, जिसके बारे में वैज्ञानिकों का मानना है कि वहां जमे हुए पानी के महत्वपूर्ण भंडार हो सकते हैं।”

अमेरिका के प्रमुख समाचार नेटवर्क केबल न्यूज नेटवर्क (सीएनएन) ने भारतीय चंद्रमा लैंडिंग की सराहना करते हुए कहा : “भारत के मून लैंडर द्वारा ली गई चंद्रमा की आकर्षक तस्वीरें देखें।”

एक प्रसिद्ध अंतरिक्ष वेबसाइट वर्ज ने भारत की प्रशंसा करते हुए कहा : “भारत ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान 3 को उतारकर अंतरिक्ष यात्रा का इतिहास बनाया है। भारत के चंद्र मिशन ने आज दक्षिणी ध्रुव के पास सफलतापूर्वक सॉफ्ट लैंडिंग करके अंतरिक्ष यात्रा का इतिहास रच दिया है। रूस के लूना 25 अंतरिक्ष यान के उसी क्षेत्र में उतरने की कोशिश करते समय दुर्घटनाग्रस्त होने के कुछ ही दिनों बाद भारत अब चंद्रमा पर अपने लैंडर को उतारने वाला चौथा देश है और चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सफलतापूर्वक उतरने वाला पहला देश है – थोड़ा सा चंद्रमा के उस क्षेत्र का पता लगाया गया, जिसके बारे में माना जाता है कि वह बर्फ से ढका हुआ है।”

इसमें कहा गया है कि भारतीय चंद्रयान विक्रम उसी स्थान के पास उतरा, जहां रूस का लूना 25 दुर्घटनाग्रस्त हुआ था।

मध्य पूर्व के एक अन्य प्रमुख समाचार नेटवर्क, अल जज़ीरा ने भी इस घटना की सराहना करते हुए कहा : “चंद्रयान -3 ने अंतरिक्ष में इतिहास रचा है। भारत ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास सफलतापूर्वक अंतरिक्ष यान उतारा, ऐसा करने वाला वह पहला देश बन गया। भारतीय प्रधानमंत्री (नरेंद्र) मोदी कहते हैं कि मिशन की सफलता ‘पूरी मानवता की है।’

Leave feedback about this

  • Service