July 20, 2024
World

शीर्ष अमेरिकी नेताओं ने भारत की चंद्र सफलता का मनाया जश्‍न

वाशिंगटन, उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से लेकर राजदूत एरिक गार्सेटी तक, शीर्ष अमेरिकी नेताओं ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र पर चंद्रयान-3 की ऐतिहासिक लैंडिंग के लिए भारत को बधाई दी और इसे एक ‘अविश्वसनीय उपलब्धि’ बताया।

भारतीय-अमेरिकी कमला हैरिस ने गुरुवार को एक्स पर लिखा, “चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र पर चंद्रयान -3 की ऐतिहासिक लैंडिंग के लिए भारत को बधाई।” अब भारत अमेरिका, चीन और पूर्व सोवियत संघ के बाद यह उपलब्धि हासिल करने वाला चौथा देश बन गया।

हैरिस ने कहा, “इसमें शामिल सभी वैज्ञानिकों और इंजीनियरों के लिए यह एक अविश्वसनीय उपलब्धि है। हमें इस मिशन और अंतरिक्ष अन्वेषण में आपके साथ अधिक व्यापक रूप से साझेदारी करने पर गर्व है।”

गौरतलब है कि पिछले महीने, भारत ने तीन साल पुराने आर्टेमिस समझौते पर हस्ताक्षर किए, जो ग्रहों की खोज और अनुसंधान पर अमेरिका के नेतृत्व वाली अंतरराष्ट्रीय साझेदारी है।

आर्टेमिस समझौता नासा के आर्टेमिस कार्यक्रम से निकटता से जुड़ा हुआ है, इसका उद्देश्य अंतरिक्ष यात्रियों को चंद्रमा की सतह पर वापस लाना, वहां एक अंतरिक्ष शिविर बनाना और अंतरिक्ष अन्वेषण करना है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) को बधाई देते हुए, जो आर्टेमिस समझौते का भागीदार है, नासा के प्रशासक बिल नेल्सन ने एक्स पर लिखा: “आपके सफल चंद्रयान -3 चंद्र दक्षिणी ध्रुव लैंडिंग पर इसरो को बधाई! और ऐसा करने वाला चौथा देश बनने पर भारत को बधाई।” चंद्रमा पर एक अंतरिक्ष यान की सफलतापूर्वक सॉफ्ट-लैंडिंग। हमें इस मिशन में आपका भागीदार बनकर खुशी हो रही है!”

भारतीय-अमेरिकी कांग्रेसी रो खन्ना, जो इस महीने स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए भारत में थे, ने इसे देश के लिए एक “बड़ा क्षण” कहा।

खन्ना ने कहा, “भारत के लिए एक बड़ा क्षण। बधाई हो… मैंने हाल ही में एक प्रतिनिधिमंडल के साथ पूरे भारत में अविश्वसनीय प्रतिभा और गतिशीलता देखी।”

अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने एक्स पर लिखा, “चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान-3 की ऐतिहासिक लैंडिंग के लिए इसरो और भारत के लोगों को बधाई। हम आने वाले वर्षों में अंतरिक्ष अन्वेषण पर भारत के साथ अपनी साझेदारी को गहरा करने के लिए तत्पर हैं।”

भारत में अमेरिकी राजदूत एरिक गार्सेटी ने एक्स पर लिखा वह अमेरिका और भारत के लिए आगे “रोमांचक अवसर” देखते हैं।

गार्सेटी ने चंद्रयान3 की सफल लैंडिंग पर भारत व इसरो और पूरी टीम को बधाई दी।

कांग्रेसी ब्रैड शर्मन ने कहा, “चंद्रमा की सतह के इस हिस्से पर यान उतारने वाला भारत पहला देश है।”

चंद्रमा मिशन की सफलता से उत्साहित इसरो के अध्यक्ष एस. सोमनाथ ने कहा कि सूर्य मिशन के लिए आदित्य-एल1 उपग्रह सितंबर के पहले सप्ताह के दौरान लॉन्च किया जाएगा।

Leave feedback about this

  • Service