April 23, 2024
Haryana

‘चुड़ैलों का झाड़ू’, मटर की फसल के लिए एक नया खतरा

हिसार, 23 मार्च हिसार में चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय (एचएयू) के वैज्ञानिकों ने मटर की फसल को प्रभावित करने वाली एक नई और संभावित विनाशकारी बीमारी की पहचान की है। ‘चुड़ैलों’ ब्रूम’ नाम की यह बीमारी रोगज़नक़ ‘कैंडिडैटस फाइटोप्लाज्मा एस्टेरिस’ (16SrI) से जुड़ी है।

कार्रवाई के दौरान वैज्ञानिकों ने देखा कि लगभग 10 प्रतिशत पौधों में चुड़ैलों के झाडू जैसे लक्षण दिखाई दिए, जिनकी विशेषता विकास में रुकावट और 42.7 हेक्टेयर से अधिक के खेतों में झाड़ीदार उपस्थिति थी, जिससे मटर के पौधों में असामान्यताएं प्रदर्शित हुईं। फूलों में एक अजीब परिवर्तन आया और वे हरी संरचनाओं में बदल गए। कुछ क्षेत्रों में देखे गए उच्च संक्रमण के कारण फसल की पैदावार में उल्लेखनीय गिरावट आई, जिससे कृषि विशेषज्ञों और किसानों में चिंता बढ़ गई। वैज्ञानिकों ने त्वरित कार्रवाई की और नई दिल्ली में आईएआरआई के वैज्ञानिकों के सहयोग से आणविक पहचान के अधीन पौधों के नमूने एकत्र किए। डॉ. जगमोहन सिंह ढिल्लों के नेतृत्व में शोध दल ने मटर के पौधों में पहले से अज्ञात बीमारी की उपस्थिति की पुष्टि की, जो फाइलोडी और विच द्वारा चिह्नित है। झाड़ू के लक्षण.

वैज्ञानिकों ने देखा कि लगभग 10 प्रतिशत पौधों में चुड़ैलों के झाडू जैसे लक्षण दिखाई दिए, जिनकी विशेषता विकास में रुकावट और 42.7 हेक्टेयर से अधिक के खेतों में झाड़ीदार उपस्थिति थी, जिससे मटर के पौधों में असामान्यताएं प्रदर्शित हुईं। इसके अलावा, फूलों में एक अजीब परिवर्तन आया और वे हरी संरचनाओं में बदल गए। कुछ क्षेत्रों में देखे गए उच्च संक्रमण के कारण फसल की पैदावार में उल्लेखनीय गिरावट आई, जिससे कृषि विशेषज्ञों और किसानों में चिंता बढ़ गई।

वैज्ञानिकों ने त्वरित कार्रवाई की और नई दिल्ली में भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (आईएआरआई) के वैज्ञानिकों के सहयोग से आणविक पहचान के अधीन पौधों के नमूने एकत्र किए। विस्तृत विश्लेषण के बाद, डॉ. जगमोहन सिंह ढिल्लों (पादप रोगविज्ञानी, सीसीएस एचएयू, हिसार) के नेतृत्व में अनुसंधान दल ने मटर के पौधों में पहले से अज्ञात बीमारी की उपस्थिति की पुष्टि की, जो फ़ाइलोडी और चुड़ैलों के झाड़ू के लक्षणों से चिह्नित है। शोध में 16SrI स्ट्रेन का ‘कैंडिडैटस फाइटोप्लाज्मा एस्टेरिस’ पाया गया, जो एक ऐसा रोगज़नक़ है जिसका अब तक मटर की खेती में सामना नहीं हुआ था।

इस खोज को अब अमेरिका स्थित अमेरिकन फाइटोपैथोलॉजिकल सोसाइटी के प्रतिष्ठित प्लांट डिजीज जर्नल में 10.50 की उल्लेखनीय नेशनल एकेडमी ऑफ एग्रीकल्चरल साइंसेज (एनएएएस) रेटिंग के साथ आधिकारिक तौर पर प्रलेखित किया गया है।

कुलपति प्रोफेसर बीआर कंबोज ने डॉ. जगमोहन सिंह ढिल्लों, डॉ. राकेश कुमार और डॉ. डीएस दुहन सहित वैज्ञानिकों की उनके उत्कृष्ट शोध की सराहना की।

मटर की खेती पर डायन झाड़ू के प्रभाव को प्रबंधित करने और कम करने के लिए रणनीति विकसित करने के लिए अनुसंधान प्रयास चल रहे हैं, क्योंकि इसकी कृषि अर्थव्यवस्थाओं को बाधित करने की संभावना बहुत अधिक है। वीसी ने कहा कि वैज्ञानिक समुदाय, कृषि हितधारकों के साथ मिलकर, बीमारी के व्यवहार को समझने, फैलने और मटर की फसलों को इस नए खतरे से बचाने के लिए स्थायी समाधान खोजने के लिए सहयोग कर रहा है।

Leave feedback about this

  • Service